Skip to main content

Ssc chsl vs ssc mts job profile,salary and posts.

  • SSC CHSL VS SSC MTS FULL INFORMATION,SALARY, POSTS.
    इस अनुच्छेद में, हम दोनों प्रविष्टियों SSC CHSL और MTS के लिए जॉब प्रोफाइल, वेतन, और पदोन्नति के अवसरों के बारे में चर्चा करेंगे।
    SSC CHSL vs. SSC MTS: जॉब प्रोफाइल
    SSC CHSL में, आपकी जॉब प्रोफाइल आपकी पोस्टिंग पर निर्भर करती है|
    SSC CHSL कार्य प्रोफ़ाइल
    डाक सहायक / छंटनी सहायक – उम्मीदवार को डाकघर, बचत बैंक नियंत्रण संगठन, सर्कल / क्षेत्रीय कार्यालय, मेल मोटर सेवाओं, रिटर्न पत्र कार्यालय, विदेशी डाक संगठन, रेलवे मेल सेवा और विभिन्न बहु-उददेशीय पदों पर भर्ती किया जाता हैं।
    लोअर डिवीजन क्लार्क- इस पोस्ट के तहत, मेल पंजीकृत करने, इंडेक्सिंग-रजिस्ट्रिंग और फाइल रजिस्टरों को बनाए रखने, दस्तावेजों में अभिलेख प्राप्त करने और बनाए रखने, अच्छे टाइपिंग- साधारण ड्राफ्ट और स्टेटमेंट तैयार इत्यादि की जिम्मेदारी आपकी होगी|
    डेटा एंट्री ऑपरेटर- इस पद की नौकरी में रिपोर्ट तैयार करने, डेटा प्रविष्ट करने और प्रबंधित करने के साथ एमएस एक्सेल, एमएस वर्ड और अन्य कार्यालय अनुप्रयोगों पर विशेषज्ञता होनी शामिल है। इस पोस्ट के लिए टाइपिंग की गति अच्छी होनी चाहिए|
    कोर्ट क्लर्क- यह अदालतों में शुरूआती स्तर का लिपिक पद है। ये कोर्ट में सुनवाई से संबंधित प्रशासनिक कार्य को संभालने, रैक में रिकॉर्ड रखने और जब भी आवश्यकता हो उन्हें बाहर निकालने के लिए जिम्मेदार होते हैं।
    SSC MTS कार्य प्रोफ़ाइल
    इस प्रविष्टि के माध्यम से, एक उम्मीदवार को चपरासी, जमादार, दफ्तरी, गेस्टेटनेर, चौकीदार, माली, चालक आदि के रूप में पोस्ट किया जाता है।
    SSC CHSL vs. SSC MTS: वेतन
    SSC CHSL: वेतन विवरण
    CHSL पदों के तहत, अधिकारियों का वेतन निम्नानुसार है-
    डाक सहायक / छंटनी सहायक- इस पोस्ट के लिए पेशकश वेतनमान रु० 5,200-20,200 और ग्रेड वेतन रू० 2,400 है| मेट्रो शहरों में इस पद के लिए सकल वेतन रु० 26,000 रुपये है और कर कटौती के बाद,  इनहैण्ड वेतन लगभग रु०23,500 होगा|
    लोअर डिवीजन क्लर्क- इस पोस्ट के लिए वेतनमान पहले के समान है जो कि रु० 5,200-20,200 और ग्रेड वेतन रु० 1,900 निश्चित किया गया है मेट्रो शहरों में इस पद का कुल वेतन 20,000 रुपये और इनहैण्ड वेतन लगभग रु० 18,000 है|
    डेटा एंट्री ऑपरेटर- इस पद के लिए वेतन रु० 5,200-20,200 व ग्रेड वेतन रु० 1,900 और रु० 2,400 होता है। यह पोस्टिंग पर भी निर्भर करता है गणना की गई सकल वेतन लगभग रु० 26,000 होती है| .   आप यह पोस्ट फुटूरमकेर 999 Vlog पर देख रहे । भविष्य मे किसी भी जानकारी के लिए सर्च कर future maker 999 आपको सारी जानकारी मिल जाएगी।
    कोर्ट क्लर्क- यह पद 2016 में भर्ती में पहली बार शामिल किया गया है। मेट्रो शहरों के लिए, वेतन लगभग 20,000 रुपये है। जोकि वेतनमान रु० 5,200-20,200 और रु० 1, 900 के ग्रेड वेतन के अंतर्गत गणना करने के बाद इनहैण्ड वेतन लगभग रु० 18,000 प्राप्त होता है।
    उपर्युक्त वेतन 6 वें वेतन आयोग के अनुसार है। इन मापदंडों में 7वें वेतन आयोग की सिफारिश शामिल नहीं है।
  • धन्यबाद

Comments

Popular posts from this blog

B.sc करने के फायदे ? (हिंदी मे)

B.sc  करने के फायदे ? (हिंदी मे)
आजकल, जब 12 वीं क्लास पास करने के बाद ग्रेजुएशन लेवल पर कोई कोर्स चुनने का अवसर आता है तो अधिकांश छात्र इंजीनियरिंग या एमबीबीएस में से कोई एक कोर्स चुन लेते हैं. पिछले कुछ वर्षों से इन दोनों ही कोर्सेज में विकास के काफी अवसर उपलब्ध रहे हैं. इसलिए, भारत में टॉप इंजीनियरिंग कॉलेजों और अच्छे कॉलेजों में लिमिटेड सीट्स होने के साथ ही एप्लिकेंट्स की बढ़ती हुई संख्या के कारण आजकल बड़ा सख्त कम्पटीशन देखने को मिल रहा है. इन सब बातों को ध्यान में रखकर अक्सर लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि, ‘क्या बीएससी (बैचलर ऑफ़ साइंस) कोर्स ने अब अपनी लोकप्रियता खो दी है?’

आप ये आर्टिकल futuremaker999.com पर पड़ रहे है।
ऐसी बात नहीं है. आज भी अधिकांश स्टूडेंट्स किसी साधारण कॉलेज से इंजीनियरिंग या एमबीबीएस कोर्स करने के बजाय किसी अच्छी यूनिवर्सिटी से बीएससी कोर्स करना पसंद करते हैं. बीएससी कोर्स करने के अपने फायदे हैं. लेकिन, इससे संबद्ध केवल एक समस्या है और वह यह है कि विभिन्न कॉलेज और यूनिवर्सिटीज इन बीएससी कोर्सेज का ज्यादा विज्ञापन नहीं करते हैं. अक्सर छात्रों को यह नहीं पत…

B.com करने के फायदे(benefits of do the b.com);

B.com करने के फायदे(benefits of do the b.com)! कॉमर्स को हमेशा से एक ऐसी प्रोफेशनल फील्ड के रूप में जाना जाता रहा है, जिसमें करियर के कई आकर्षक अवसर होते हैं। मगर बीकॉम के ठीक बाद उपलब्‍ध करियर के अवसरों के चलते यह धारणा भी बन गई है कि कॉमर्स में हायर एजुकेशन का स्कोप बहुत सीमित है। मगर यह धारणा पूरी तरह गलत है। बीकॉम करने के बाद आगे पढ़ाई के ढेरों विकल्प मौजूद हैं। एक नजर डालते हैं ऐसे ही कुछ प्रमुख विकल्पों पर। बैंकिंग व बीमा बीकॉम के बाद बैंकिंग तथा बीमा के क्षेत्र में भी पढ़ाई कर करियर बनाया जा सकता है। पोस्ट ग्रेजुएट स्तर पर ऐसे स्पेशलाइज्ड अकेडेमिक प्रोग्राम हैं, जो विद्यार्थियों को इन क्षेत्रों की बेसिक्स का प्रशिक्षण देते हैं। इनमें प्रमुख हैं बैंकिंग एंड इंश्योरेंस में स्पेशलाइजेशन के साथ एमकॉम, बैंकिंग में स्पेशलाइजेशन के साथ एमबीए, इंश्योरेंस में स्पेशलाइजेशन के साथ एमबीए आदि। बैंकिंग और बीमा से जुड़े अध‍िकांश पोस्ट ग्रेजुएट स्तर के प्रोग्राम्स में सब-स्पेशलाइजेशन के भी कई विकल्प होते हैं।मार्केटिंग आम तौर पर मार्केटिंग को ‘जनरलिस्ट” फील्ड समझा जाता है, जिसमें किसी भी पृष्ठभूम…

RRB NTPC 2019| SET 4 |ONE LINER QUESTIONS|SSC MTS 2019,RRB GROUP D 2019|...

https://youtu.be/Vxf6sPb0CBs