Skip to main content

WIFISTUDY| Case study of Wifi study|Top 10 facts about wifi study| wifis...

Comments

Popular posts from this blog

B.sc करने के फायदे ? (हिंदी मे)

B.sc  करने के फायदे ? (हिंदी मे) आजकल, जब 12 वीं क्लास पास करने के बाद ग्रेजुएशन लेवल पर कोई कोर्स चुनने का अवसर आता है तो अधिकांश छात्र इंजीनियरिंग या एमबीबीएस में से कोई एक कोर्स चुन लेते हैं. पिछले कुछ वर्षों से इन दोनों ही कोर्सेज में विकास के काफी अवसर उपलब्ध रहे हैं. इसलिए, भारत में टॉप इंजीनियरिंग कॉलेजों और अच्छे कॉलेजों में लिमिटेड सीट्स होने के साथ ही एप्लिकेंट्स की बढ़ती हुई संख्या के कारण आजकल बड़ा सख्त कम्पटीशन देखने को मिल रहा है. इन सब बातों को ध्यान में रखकर अक्सर लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि, ‘क्या बीएससी (बैचलर ऑफ़ साइंस) कोर्स ने अब अपनी लोकप्रियता खो दी है?’ आप ये आर्टिकल futuremaker999.com  पर पड़ रहे है। ऐसी बात नहीं है. आज भी अधिकांश स्टूडेंट्स किसी साधारण कॉलेज से इंजीनियरिंग या एमबीबीएस कोर्स करने के बजाय किसी अच्छी यूनिवर्सिटी से बीएससी कोर्स करना पसंद करते हैं. बीएससी कोर्स करने के अपने फायदे हैं. लेकिन, इससे संबद्ध केवल एक समस्या है और वह यह है कि विभिन्न कॉलेज और यूनिवर्सिटीज इन बीएससी कोर्सेज का ज्यादा विज्ञापन नहीं करते हैं. अक्सर छात्र

B.com करने के फायदे(benefits of do the b.com);

B.com करने के फायदे(benefits of do the b.com)! कॉमर्स को हमेशा से एक ऐसी प्रोफेशनल फील्ड के रूप में जाना जाता रहा है, जिसमें करियर के कई आकर्षक अवसर होते हैं। मगर बीकॉम के ठीक बाद उपलब्‍ध करियर के अवसरों के चलते यह धारणा भी बन गई है कि कॉमर्स में हायर एजुकेशन का स्कोप बहुत सीमित है। मगर यह धारणा पूरी तरह गलत है। बीकॉम करने के बाद आगे पढ़ाई के ढेरों विकल्प मौजूद हैं। एक नजर डालते हैं ऐसे ही कुछ प्रमुख विकल्पों पर। बैंकिंग व बीमा बीकॉम के बाद बैंकिंग तथा बीमा के क्षेत्र में भी पढ़ाई कर करियर बनाया जा सकता है। पोस्ट ग्रेजुएट स्तर पर ऐसे स्पेशलाइज्ड अकेडेमिक प्रोग्राम हैं, जो विद्यार्थियों को इन क्षेत्रों की बेसिक्स का प्रशिक्षण देते हैं। इनमें प्रमुख हैं बैंकिंग एंड इंश्योरेंस में स्पेशलाइजेशन के साथ एमकॉम, बैंकिंग में स्पेशलाइजेशन के साथ एमबीए, इंश्योरेंस में स्पेशलाइजेशन के साथ एमबीए आदि। बैंकिंग और बीमा से जुड़े अध‍िकांश पोस्ट ग्रेजुएट स्तर के प्रोग्राम्स में सब-स्पेशलाइजेशन के भी कई विकल्प होते हैं। मार्केटिंग आम तौर पर मार्केटिंग को ‘जनरलिस्ट” फील्ड समझा जाता है, जिसमें

B.C.A करने के फायदे ?(हिंदी में)

B.C.A करने के फायदे ?(हिंदी मैं) बीसीए का पूरा नाम बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन है. आजकल अनेक छात्र बीसीए (कम्प्यूटर एप्लीकेशन में स्नातक) का कोर्स करते हैं. क्योंकि इस कोर्स को करने के बाद करियर के लिए काफी ऑप्शन मिल जाते हैं. बीसीए एक ऐसा कोर्स है जो बारहवी  (12th) पीसीऍम (PCM) के बाद कोई भी छात्र आसानी से कर सकता है. बीसीए तीन साल का डिग्री कोर्स है. आजकल इन्टरनेट की मांग हर जगह काफी बढ़ गयी है. इन्टरनेट की दुनिया में अच्छा करियर बनाने के लिए बीसीए एक अच्छा ऑप्शन है. इस कोर्स को करने के बाद इन्टरनेट के क्षेत्र में आसानी से जॉब मिल जाती है. बीसीए कोर्स करने के लिए शैक्षिक योग्यता| आजकल हर जगह पर इन्टरनेट का काफी चलन हो गया है. इन्टरनेट में अपना करियर बनाने के लिए बीसीए का कोर्स एक अच्छा ऑप्शन माना जाता है. बीसीए का कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स को बारहवी पीसीऍम में उतीर्ण होना अनिवार्य होता है. बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन करने के फायदे। बीसीए कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स को अनेक क्षेत्रो में आसानी से जॉब मिल जाती है. आजकल हर कार्य को इन्टरनेट की मदद से किया जाता