Skip to main content

Fundamentals of Indian constitution|20 important facts about indian constitution|भारतीय संविधान के 20 तथ्य|~futuremaker999.com


Fundamentals of Indian constitution|20 important facts about indian constitution|भारतीय संविधान के 20 तथ्य(in hindi)~futuremaker999.com

नमस्कार मित्रो आज हम जानेंगे हमारे भारत के संविधान के वारे मैं बहुत ही महत्वपूर्ण तथ्य......
..............तो चलिए शुरू करते है......
In hindi...

● 1946 मैं कैबिनेट मिशन की सिफारिश के अनुसार भारत के संविधान निर्माण के लिए एक संविधान सभा का गठन किया गया।

● पाकिस्तान की संविधान सभा का गठन मोउंटवेटन योजना के अंतर्गत(3 जून 1947) को किया गया।

● 9 दिसंबर 1946 को प्रथम वार वैठक मैं "श्री सचिदानंद सिन्हा" को अस्थायी रूप से अध्य्क्ष निर्वाचित किया गया।

● ओर फिर 11 दिसंबर 1946 को डॉ राजेन्द्र प्रसाद को स्थायी अध्य्क्ष चुना गया।

● संविधान सभा ने प्र्तेक प्रांत को तीन प्रमुख समुदाय (मुस्लिम ,सिख,साधारण) मैं जनसंख्या के अनुपात में बाटा गया।

● 26 नवंबर 1949 को इसे 284 सदस्यों ने स्वीकार किया।

● 26 जनवरी 1950 को इसे सम्पूर्ण भारतबर्ष मे लागू किया गया।

● भारतीय संविधान को पूरा होने में 2 वर्ष 11 महीने 18 दिन का समय लगा।

● भारतीय संविधान मैं 117,369 शब्द है।

● भारतीय संविधान को लिखने में कुल 254 पेन निब्स का उपयोग किया गया।

● भारतीय संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है।( इसे हाथ से लिखा गया है न की मशीन से)।

● लोगो मे जागरूकता फैलाने के लिए संविधान के प्रति 26 नवंबर 1949 को 
"संविधान दिवस" मनाया जाता है।

● भारत के संविधान में करीब 104  संसोधन किये गए है जो कि सारे विश्व मे सबसे अधिक है।

● संविधान सभा की कमेटी 284 सदस्यों की थी जिसमे 15 महिलाएं भी थी।

● भारत का संविधान बनाने मे करीब ₹6.3 करोड़ का खर्च हुआ था।

● संविधान की प्रारूप समिति का गठन 29 अगस्त 1947 को किया गया। जो 7 सदस्यीय थी। (1+6) इसके अध्य्क्ष -डॉ भीमराव अंबेडकर जी थे।

● प्रस्तावना संविधान का भाग नही है।

● 1976 मे 42वा संविधान संशोधन  द्वारा  
प्रस्तावना मैं "समाजवादी", "पंथ निरपेक्ष" ,"अखण्डता"  शब्द जोड़े गए।

● संविधान सभा मे कुल 389 सदस्य थे।(जिसमें 292 प्रांतीय विधान सभाओं से, 93 देसी रियासत से, 4 कमीशनरी से)

● भारतीय संविधान मैं कुल 444 अनुच्छेद है( वर्तमान मे) ।

आशा करता हूँ आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी कृपया अपनी रिएक्शन साझा करें कमेंट बॉक्स मैं........

In english......

.....

● A Constituent Assembly was formed for the constitution of India as per the recommendation of the Cabinet Mission in 1946.


● The Constituent Assembly of Pakistan was formed (3 June 1947) under the Mountwatten Plan.


● On 9 December 1946, "Shri Sachchidananda Sinha" was temporarily elected as the President for the first time.


● And on 11 December 1946, Dr. Rajendra Prasad was elected as the permanent president.


● The Constituent Assembly divided the province into three major communities (Muslim, Sikh, ordinary) in proportion to the population.


● It was accepted by 284 members on 26 November 1949.


● It was implemented throughout India on 26 January 1950.


● It took 2 years 11 months 18 days to complete the Indian Constitution.


● Indian constitution has 117,369 words.


● A total of 254 pen nibs were used in writing the Indian Constitution.


● Indian constitution is the largest written constitution in the world. (It is written by hand and not by machine).


● To spread awareness among people on 26 November 1949 towards the Constitution

"Constitution Day" is celebrated.


● There are about 104 amendments in the Constitution of India, which is the highest in the whole world.


● The committee of the Constituent Assembly was 284 members of which 15 were women.


● About ₹ 6.3 crores was spent in making the Constitution of India.


● The Drafting Committee of the Constitution was formed on 29 August 1947. Which was 7 members. (1 + 6) It was headed by Dr. Bhimrao Ambedkar.


● The Preamble is not a part of the Constitution.


● By the 42nd Constitution Amendment in 1976

The words "Socialist", "Absolute Cult", "Integrity" were added to the preamble.


● The Constituent Assembly had a total of 389 members. (Of which 292 were from the provincial legislative assemblies, 93 from the princely state, 4 from the commissionerate).


● Indian constitution has a total of 444 articles (at present).


Hope you like this information, please share your reaction in the comment box ........



Thank you...

धन्यवाद...

VISIT REGULARLY ON :) WWW.FUTUREMAKER999.COM FOR MORE INFORMATION....




Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

B.sc करने के फायदे ? (हिंदी मे)

B.sc  करने के फायदे ? (हिंदी मे)
आजकल, जब 12 वीं क्लास पास करने के बाद ग्रेजुएशन लेवल पर कोई कोर्स चुनने का अवसर आता है तो अधिकांश छात्र इंजीनियरिंग या एमबीबीएस में से कोई एक कोर्स चुन लेते हैं. पिछले कुछ वर्षों से इन दोनों ही कोर्सेज में विकास के काफी अवसर उपलब्ध रहे हैं. इसलिए, भारत में टॉप इंजीनियरिंग कॉलेजों और अच्छे कॉलेजों में लिमिटेड सीट्स होने के साथ ही एप्लिकेंट्स की बढ़ती हुई संख्या के कारण आजकल बड़ा सख्त कम्पटीशन देखने को मिल रहा है. इन सब बातों को ध्यान में रखकर अक्सर लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि, ‘क्या बीएससी (बैचलर ऑफ़ साइंस) कोर्स ने अब अपनी लोकप्रियता खो दी है?’

आप ये आर्टिकल futuremaker999.com पर पड़ रहे है।
ऐसी बात नहीं है. आज भी अधिकांश स्टूडेंट्स किसी साधारण कॉलेज से इंजीनियरिंग या एमबीबीएस कोर्स करने के बजाय किसी अच्छी यूनिवर्सिटी से बीएससी कोर्स करना पसंद करते हैं. बीएससी कोर्स करने के अपने फायदे हैं. लेकिन, इससे संबद्ध केवल एक समस्या है और वह यह है कि विभिन्न कॉलेज और यूनिवर्सिटीज इन बीएससी कोर्सेज का ज्यादा विज्ञापन नहीं करते हैं. अक्सर छात्रों को यह नहीं पत…

B.com करने के फायदे(benefits of do the b.com);

B.com करने के फायदे(benefits of do the b.com)! कॉमर्स को हमेशा से एक ऐसी प्रोफेशनल फील्ड के रूप में जाना जाता रहा है, जिसमें करियर के कई आकर्षक अवसर होते हैं। मगर बीकॉम के ठीक बाद उपलब्‍ध करियर के अवसरों के चलते यह धारणा भी बन गई है कि कॉमर्स में हायर एजुकेशन का स्कोप बहुत सीमित है। मगर यह धारणा पूरी तरह गलत है। बीकॉम करने के बाद आगे पढ़ाई के ढेरों विकल्प मौजूद हैं। एक नजर डालते हैं ऐसे ही कुछ प्रमुख विकल्पों पर। बैंकिंग व बीमा बीकॉम के बाद बैंकिंग तथा बीमा के क्षेत्र में भी पढ़ाई कर करियर बनाया जा सकता है। पोस्ट ग्रेजुएट स्तर पर ऐसे स्पेशलाइज्ड अकेडेमिक प्रोग्राम हैं, जो विद्यार्थियों को इन क्षेत्रों की बेसिक्स का प्रशिक्षण देते हैं। इनमें प्रमुख हैं बैंकिंग एंड इंश्योरेंस में स्पेशलाइजेशन के साथ एमकॉम, बैंकिंग में स्पेशलाइजेशन के साथ एमबीए, इंश्योरेंस में स्पेशलाइजेशन के साथ एमबीए आदि। बैंकिंग और बीमा से जुड़े अध‍िकांश पोस्ट ग्रेजुएट स्तर के प्रोग्राम्स में सब-स्पेशलाइजेशन के भी कई विकल्प होते हैं।मार्केटिंग आम तौर पर मार्केटिंग को ‘जनरलिस्ट” फील्ड समझा जाता है, जिसमें किसी भी पृष्ठभूम…

RRB NTPC 2019| SET 4 |ONE LINER QUESTIONS|SSC MTS 2019,RRB GROUP D 2019|...

https://youtu.be/Vxf6sPb0CBs